khas log

vmbechainblogspot.com

Thursday, 1 September 2011

घर बसाणा स तो काम करया कर



ख्याली पुलाव त कुछ कोन्य होवे
बेकार तनाव त कुछ कोन्य होवे
दरिया पार जाना स तो तैरके जा
कागज़ की नाव त कुछ कोन्य होवे
घर बसाणा स तो काम करया कर
जुल्फां की छाव त कुछ कोन्या होवे
कल्याण तो देश का हिंदी ए करेगी
अंग्रेजी कांव-कांव त कुछ कोन्या होवे
हर जगह छारे स माहरे गाबरू बेचैन
कौन कहवे स गांव त कुछ कोन्या होवे