khas log

vmbechainblogspot.com

Friday, 6 January 2012

क्यूं इसकी के आंख दुखणी आ री है।

हरियाणा में जब एक कंडक्टर ने बकाया राशि देते हुए एक गला हुआ सा दस का नोट किसी सवारी को दिया
तो सवारी बोली - ये नोट बदल दो।

उसकी बात सुनकर कंडक्टर ने ताना मारा -
क्यूं इसकी के आंख दुखणी आ री है।

No comments: