khas log

vmbechainblogspot.com

Thursday, 1 March 2012

लुगाई तै बड़ा जादुगर नही सै धरती पै

मरण तै पहल्या माँ मैन्ने सही बतागी थी
लुगाई तै बड़ा जादुगर नही सै धरती पै

इश्क करया पाछे या बात समझ में आई
एक इज्जत तै बड़ा डर नही सै धरती पै

महबूब या भगवान का सजदा करया सै
कोए बिन झुक्या होया सर नही सै धरती पै

झील समन्दर पार्क सबके सब बकवास
कोए महबूबा तै सुंदर नही सै धरती पै 

सब पुराणी हरकता का अंजाम सै बेचैन
कोए भी तो ताज़ा खबर नही सै धरती पै  

No comments: